Abhinav Abhishad
यह सभी व्यक्ति-वस्तु-व्यवस्था में सभी समय-स्थान-परिस्थितियों में अनिवार्य रूप से रहने वाली ज़रूरतों को धनुष की तरह उपयोग किए जाने की व्यवस्था की योजना है| जिसे कोई भी चाहे वह दीन-हीन, कमजोर, मूर्ख, बच्चा, महिला या दुष्ट भी केवल चाहत मात्र से ही बगैर किसी लागत या जोख़िम के आसानी से बना और उपयोग करके अपने लछ्योन को प्राप्त कर सकेगा, जिसे किसी भी समर्थ व्यक्ति या व्यवस्था द्वारा किसी भी प्रकार से गुमराह, बाध्य अथवा बाधित नही किया जा सकेगा|
यह सभी व्यक्ति-वस्तु-व्यवस्था में सभी समय-स्थान-परिस्थितियों में अनिवार्य रूप से रहने वाली ज़रूरतों को धनुष की तरह उपयोग किए जाने की व्यवस्था की योजना है| जिसे कोई भी चाहे वह दीन-हीन, कमजोर, मूर्ख, बच्चा, महिला या दुष्ट भी केवल चाहत मात्र से ही बगैर किसी लागत या जोख़िम के आसानी से बना और उपयोग करके अपने लछ्योन को प्राप्त कर सकेगा, जिसे किसी भी समर्थ व्यक्ति या व्यवस्था द्वारा किसी भी प्रकार से गुमराह, बाध्य अथवा बाधित नही किया जा सकेगा|

Abhishad Abhishad


View More

www.
divyaakashkhushi
.com

Abhishad Abhishad


View More

Abhishad Abhishad


View More

Facebook  Twitter
© Copyright 2015-2016
Abhinav Abhishad
All rights reserved.
Pending Applications : 9 | Confirm Members : 214 | Regular Members : 205 | Our Visitors :